Popular

Rooh Ki Barsaat Aisi Kar De | Moses Gittewar

Rooh Ki Barsaat Aisi Kar De

रूह की बरसात ऐसी कर दे -2
कि मेरी रूह तेरी रूह से जुड़ जाए -2
Rooh Ki Barsaat, 
Aisi Kar De -2  
Ki Meri Rooh Teri, 
Rooh Se Jud Jaye -2
तेरी रूह के साथ, जो भी संगत करता है 
तेरी रूह के साथ वो, एक हो जाता है -2 
तेरी रूह के चलाए, जो भी चलते हैं 
वे ही तेरी संतान कहलाते हैं -2
Teri Rooh Ke Sath 
Jo Bhi Sangat Karta Hai
Teri Rooh Ke Sath Wo 
Ek Ho Jata Hai -2
Teri Rooh Ke Chalaye 
Jo Bhi Chalte Hai
Ve Hi Teri Santan Kahlate Hai -2
जो भी ईमान सच्चा तुझ पे लाते हैं 
तेरी रूह की बारिश में, भीग जाते हैं -2 
जो भी अपनी रूह में, तौबा करता है 
उसकी ही रूह खुदा से शिफा पाती है -2
Jo Bhi Imaan Sachha 
Tujh Pe Late Hai
Teri Rooh Ki Baarish Me 
Bheeg Jate Hai -2
Jo Bhi Apni Rooh Me 
Touba Karta Hai
Uski Hi Rooh Khuda Se 
Shifa Paati Hai -2
मेरा कुछ भी मुझ में, बाकी न रहे 
बस तू ही तू, मुझ में नजर आए -2 
तेरे आने की मैं, राह तकता रहूं 
तेरे आने से मैं, तुझ में एक हो जाऊं -2
Mera Kuch Bhi Mujh Me 
Baki Na Rahe
Bas Tu Hi Tu Mujh Me 
Nazar Aaye -2
Tere Aane Ki Main 
Rah Takta Rahoon
Tere Aane Se Main 
Tujh Me Ek Ho Jaun -2

Rooh Ki Barsaat Aisi Kar De

Written, Composed & Sung By : Moses Gittewar

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular

Recommended