24.2 C
Shimla
Wednesday, July 6, 2022

Popular

Aye Lashkaron Ke Rab

Aye Lashkaron Ke Rab

ऐ लश्करों के रब
एहेद के सन्दूक -2
तू हजारों - हजारों में
लौट के आ - लौट के आ -2
शैतान के सारे कैदी
आजाद हों - आजाद हों -2
उसकी सारी छिपी चालें
बर्बाद हों – बर्बाद हों -2
तुझसे घृणा रखने वाले,
शर्मिंदा हों - शर्मिंदा हों -2
तेरे सारे बैरी अब तो
फर्जिन्दा हो - फर्जिन्दा हो -2
सारे सांपों, बिच्छुओं को
हम कुचलेंगे - हम कुचलेंगे-2
दुश्मन की सारी चालों पर
गालिब पाएँगे - गालिब पाएँगे -2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यदि आप हमारे इस कार्य में आर्थिक रीति से सहयोग देना चाहते हैं तो आप हमसे [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। या UPI द्वारा [email protected] पर अपनी योगदान राशि भेज सकते हैं।

Popular

Don't Miss