8.3 C
Shimla
Wednesday, April 24, 2024

Duniyan Ka Dera

Duniyan Ka Dera

दुनियाँ का डेरा छोड़कर, एक दिन
पहूँचूगा मैं अनन्त घर
गाऊँगा खुशी से वहाँ जय गान
क्लेशों पर जयवंत होकर
दुनियाँ के सुख न चाहूँ
दौलत इज्जत न चाहूँ
चलना मुझे है, यीशु के कदमों पर
सर्वस्व करता तुझे अर्पण
जग के विधता, प्रभुवर
नफरत से मेरे अपने
मुझसे अपना मुँह मोड़ें
ठुकरा के मुझको गैरों की तरह
अपने प्रभु की बाहों में जल्द ही
रहूँगा मैं हर पल
धरती और सारी सृष्टि
निश्चय उस दिन बदलेगी
होगा प्रभु से जब मेरा मिलन
जाऊँगा पंछी के समान उड़कर
होगा महिमा में रूपांतर

spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Low of Leadership

The 21 Irrefutable Laws of Leadership

Follow Them and People Will Follow You (25th Anniversary Edition)

Don't Miss