24.3 C
Shimla
Tuesday, July 5, 2022

Popular

Khuda Ki Mohabbat Se Mamur Hokar

Khuda Ki Mohabbat Se Mamur Hokar

खुदा की मुहब्बत से मामूर होकर
मसीहा उतर आया है नूर होकर
Khuda ki mohabbat se 
mamur hokar -2
Masiha uttar aaya hai 
noor hokar -2
Khuda ki mohabbat se...
वो आया है अपने ही वादे की खातिर
लिया जन्म उसने कुंवारी से आखिर!
मुशीर और मालिक-ए-आब्दिअत वही है
सलामती का भी शहज़ादा वही है
जहान की खुशी का ठिकाना नहीं है
किसी दिल में ग़म का तराना नहीं है
Wo aaya hai apne hi wade ki khatir
Liya janm usne kuwari se aakhir -2
Mushir aur malik e abdiat wohi hai
Salamati ka bhi Shahzada wohi hai-2
Jaha ki khushi ka thikana nahi hai
Kisi Dil me gam ka tarana nahi hai
Khuda ki mohabbat se...
दोबारा वो आएगा, कादिर बनेगा
वह ग़मग़ीन दिल को मुनव्वर करेगा
हुज़ूर उसके तब श़ादमानी रहेगी
खुशी वो बड़ी आसमानी रहेगी
नई सलतनत का वो राजा बनेगा
सदाक़त से तख्त को समभाले रहेगा
Dobara wo aayega kadir banega
Wo gamgeen Dil ko munawar karega -2
Huzoor uske tab shaadmani rahegi
Khushi wo badi aasmani rahegi -2
Nayi saltanat ka wo Raja banega
Sadakat se takht ko sambhale rahega
Khuda ki mohabbat se...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यदि आप हमारे इस कार्य में आर्थिक रीति से सहयोग देना चाहते हैं तो आप हमसे [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। या UPI द्वारा [email protected] पर अपनी योगदान राशि भेज सकते हैं।

Popular

Don't Miss