23.7 C
Shimla
Thursday, July 7, 2022

Popular

Mahak Nayi Zindagi Ki Aaye Yahan | Marriam Maqsood

Mahak Nayi Zindagi Ki Aaye Yahan

महक नई ज़िन्दगी की, आए यहाँ -2 
सहर नई खुशियों की, निकले यहाँ -2 
महक नई ज़िन्दगी की, आए यहाँ
खाली कब्र है, तेरा हुनर है 
अल्फ़ा ओमेगा तू मसीह -2 
हरसू जिक्र है, हैरां नज़र है 
सबके लबों पे तू मसीह -2 
अबर तेरी रहमत का, बरसे यहाँ -2 
नगर नए ज़ज्बों का, महके यहाँ 
महक नई ज़िन्दगी की, आए यहाँ
नूर-ए-सदाकत मालिक क़यामत
बात-ए-कब्र है जी उठा -2 
कायम सच्चाई, देखे खुदाई 
मेरा मसीहा जी उठा -2 
गज़र तेरी फतह का, गूंजे यहाँ -2 
बहर तेरी उल्फ़त का, हरसू रवां 
महक नई ज़िन्दगी की, आए यहाँ
बदला है कैसा, मंज़र शहर का 
रंगों की आई है बहार -2 
नूर में डूबी, नगरी है सारी 
फैला मसीहा तेरा प्यार -2 
असर तेरी कुदरत का, छाए यहाँ -2 
डगर है सदाकत की, निकले यहाँ 
महक नई ज़िन्दगी की, आए यहाँ

Mahak Nayi Zindagi Ki Aaye Yahan

Worshiper: Marriam Maqsood

Lyrics and Composition: Imran Salim Shahid

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यदि आप हमारे इस कार्य में आर्थिक रीति से सहयोग देना चाहते हैं तो आप हमसे [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। या UPI द्वारा [email protected] पर अपनी योगदान राशि भेज सकते हैं।

Popular

Don't Miss