Tu Sagar Hai Muaafi Ka

Tu Sagar Hai Muaafi Ka

तू सागर है, मुआफ़ी का 
तू दरिया है, मोहब्बत का 
जो आएगा, वो पाएगा 
शिफ़ा तुझसे, गुनाहों का -2
तू सागर है, मुआफ़ी का  
गुनाहों से दबे लोगो 
वो कहता है, थके लोगो -2 
कि आओ पास, तुम्हें दूंगा 
सुकूं दिल में, डरे लोगो 
अब उजड़े हर, चमन का तू 
बना मौसम, बहारों का 
जो आएगा, वो पाएगा 
शिफ़ा तुझसे, गुनाहों का -2
तू सागर है, मुआफ़ी का  
यूँ अब तुम जो, परेशां हो 
ऐ लोगो जो पशेमाँ हो -2 
छुड़ाया जब, मसीहा ने 
तो फिर तुम क्यों, गुरेज़ाँ हो 
मिलेगा हल उसी में तुमको 
अपने हर सवालों का 
जो आएगा, वो पाएगा 
शिफ़ा तुझसे, गुनाहों का -2
तू सागर है, मुआफ़ी का…  

Tu Sagar Hai Muaafi Ka

पशेमाँ के हिंदी अर्थ – शर्मिंदा, लज्जित, अफ़सोस करने वाला, पछताने वाला

गुरेज़ाँ के हिंदी अर्थ – अनिच्छुक, अलग रहने वाला, बचते हुए, भागता हुआ, भाग कर जाता हुआ, बचकर निकल जानेवाला, पास न आने वाला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added