Popular

Yeshu Noor Hai | Kashif Arif and Phalipas Chand

Yeshu Noor Hai

यीशु नूर है, नूर है, नूर है 
यीशु नूर है, यीशु प्यार है 
सब मिलके बोलो, यीशु प्यार है -2 
यीशु नूर है, नूर है, नूर है 
दिन आ गए हैं उसके ज़हूर के 
ज़हूर के, ज़हूर के 
शाम-ओ-सहर है रब-ए-ह्यूर के
ह्यूर के, ह्यूर के 
तेल भर लो, दिल के चिराग में 
दिन आ गए हैं, नूर-ए-मामूर के -2 
यीशु नूर है, नूर है, नूर है 
आया छोड़ के अर्श को, मेरे लिए 
मेरे लिए, मेरे लिए 
हर दुःख को उठाया है, मेरे लिए 
मेरे लिए, मेरे लिए 
मैं गिरा था, गुनाहों की जेल में
अब बचाया है रब-ए-अज़ीम ने -2 
यीशु नूर है, नूर है, नूर है 
दुःख दिल का तसव्वर (गीतकार) सुनाए उसे 
सुनाए उसे, सुनाए उसे 
दर खोलें दिल का, बुलाए उसे 
बुलाए उसे, बुलाए उसे 
वो थका मांदा, दुःख से भरा हुआ 
दुःख सुनाए उसे, दुःख सुनाए उसे -2 
यीशु नूर है, नूर है, नूर है 

Yeshu Noor Hai | Kashif Arif and Phalipas Chand

Geet: Yasu Noor Hai

Worshiper: Kashif Arif and Phalipas Chand

Lyrics: Tassawar Khan (TK)

Composition: Phalipas Chand

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular