Aye Khudaya Tere Dar Pe Jo Bhi Aaya Hai

Aye Khudaya Tere Dar Pe Jo Bhi Aaya Hai

ऐ खुदाया तेरे दर पे जो भी आया है -2 
ज़िन्दगी भर तेरी रहमत का उस पे साया है -2 
मैंने पाया है तुझे हर समय करीब मेरे -2 
काली रातों सा धुंआ दिल पे जब भी छाया है -2  
ऐ खुदाया तेरे दर पे जो भी आया है
धुल गए दाग गुनाहों के तेरी रहमत से -2 
सूली से बहते हुए खून में जो नहाया है -2 
ऐ खुदाया तेरे दर पे जो भी आया है 
अब संभल जा कि चला वक़्त बहुत तेज़ी से -2 
लौट के आजा खुदा ने तुझे बुलाया है -2 
ऐ खुदाया तेरे दर पे जो भी आया है

Aye Khudaya Tere Dar Pe Jo Bhi Aaya Hai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added