23.4 C
Shimla
Wednesday, July 6, 2022

Popular

Kitna Madhurtam Hai Prabhu

Kitna Madhurtam Hai Prabhu

कितना मधुरतम है प्रभु तेरे
आँगन में वास करना (कितना) -2
आँगन में तेरे वास करना
मैं निरन्तर चाहता रहूँ
तन और मन से ईश्वर को
निरंतर पुकारता रहूँ -2
परमेश्वर का मैं मन्दिर हूँ
और इसलिए आनन्दित हूँ
स्तुति रूपी बलिदान मसीह के द्वारा
निरंतर चढ़ाता रहूँ -2
सैनाओं के यहोवा तेरे 
निवास स्थान क्या ही प्रिय है -2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यदि आप हमारे इस कार्य में आर्थिक रीति से सहयोग देना चाहते हैं तो आप हमसे [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। या UPI द्वारा [email protected] पर अपनी योगदान राशि भेज सकते हैं।

Popular

Don't Miss