Mariyam Ka Dulara | Godwin Milton

Mariyam Ka Dulara

मरियम का दुलारा, 
चरनी में सोता है -2 
जग का तारणहारा 
चरनी में सोता है 
मरियम का दुलारा
आ आ आ आ…
सोना मुर्र लोबान चढ़ाने 
आए मंजूसी पूरब से -2 
आए मंजूसी पूरब से
जग का पालनहारा 
चरनी में सोता है -2 
मरियम का दुलारा
आ आ आ आ…
अपनी अपनी भेड़ें ले के  
चले गड़रिये दंडवत को -2 
चले गड़रिये दंडवत को
उनका वो सहारा 
चरनी में सोता है 
मरियम का दुलारा, 
चरनी में सोता है
जग का पालनहारा
आ आ आ आ…
चारों ओर है घोर अँधेरा
जीवन पथ पर जाऊँ कैसे -2
जीवन पथ पर जाऊँ कैसे
जग का वो उजियारा 
चरनी में सोता है -2 
मरियम का दुलारा, 
चरनी में सोता है
जग का तारनहारा 
चरनी में सोता है 
मरियम का दुलारा 

Mariyam Ka Dulara | Godwin Milton

Written & Composed by Godwin Milton

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added