13.1 C
Shimla
Thursday, April 18, 2024

Mujhko Le Le Bahon Me Ghar Laut Aaya Hoon | Subhash Gill

Mujhko Le Le Bahon Me Ghar Laut Aaya Hoon Lyrics

आ मुझको ले ले बाहों में 
घर लौट आया हूँ -4 
घर लौट आया हूँ -4
तेरा और आसमां का 
मैंने गुनाह किया है -2 
शर्मिंदा हूँ अपनी, निगाहों में 
घर लौट आया हूँ -2 
घर लौट आया हूँ -4
अपनी ही ख्वाहिशों में 
था मसरूर, मरा था -2 
टूट चुका था, सन्नाटों में 
घर लौट आया हूँ
टूट चुका हूँ, सन्नाटों में 
घर लौट आया हूँ
घर लौट आया हूँ -4
घूम चुका पर मिली न 
तुझ सी मोहब्बत, कहीं भी -2 
कर ले शामिल बरातों में 
घर लौट आया हूँ -2 
घर लौट आया हूँ -4
Aa Mujhko Le Le Bahon Me 
Ghar Laut Aaya Hoon -4 
Ghar Laut Aaya Hoon -4 
Tera Aur Aasmaan Ka
Maine Gunaah Kiya Hai -2 
Sharminda Hoon Apni Nigaahon Me
Ghar Laut Aaya Hoon -2
Ghar Laut Aaya Hoon -4 
Apni Hi Khawahishon Me
Tha Masroor Maraa Tha -2 
Toot Chuka Tha Sannaton Me 
Ghar Laut Aaya Hoon 
Toot Chuka Hoon Sannaton Me
Ghar Laut Aaya Hoon 
Ghar Laut Aaya Hoon -4 
Ghoom Chuka Par Mili Na
Tujh Si Mohabbat Kahin Bhi -2 
Kar Le Shamil Baraton Me 
Ghar Laut Aaya Hoon -2 
Ghar Laut Aaya Hoon -4 

Mujhko Le Le Bahon Me Ghar Laut Aaya Hoon | Subhash Gill

मसरूर (masruur) = प्रसन्न, प्रफुल्ल, हर्षित, आनंदित, ख़ुश, उल्लसित, अति प्रसन्न, हर्ष और उल्लास में डूबा हुआ

spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Low of Leadership

The 21 Irrefutable Laws of Leadership

Follow Them and People Will Follow You (25th Anniversary Edition)

Don't Miss