5.6 C
Shimla
Tuesday, February 27, 2024

Yahi Kalma-E-Haq Rahe Zindagi Hai

Yahi Kalma-E-Haq Rahe Zindagi Hai Lyrics

कलमा-ए-हक़ मसीह जब, दुनियां में आ गया 
सबको खुदा के नूर का जलवा, दिखा दिया 
इंसानियत का दर्स, दिया है मसीह ने 
तफ़रीक़ का पड़ा था जो, पर्दा उठा दिया 
जो था कलमा खुदा का, शक्ल-ए-इंसानी में वो आया 
था ईसा-उल-मसीह, ज़िन्दगी का बक्शिन्दा 
वो रूह-ए-क़ुद्स की कुदरत, कँवारी से हुआ पैदा 
इसी बा'इस वो रूह अल्लाह, वो फ़रज़ंद-ए-खुदा ठहरा 
यकीं के साथ, उससे अपनी सारी मुश्किलें कह दो 
सदा तैयार रहता है, तुम्हारी बात सुनने को 
दुआओं का जवाब आएगा, बेशक ये यकीं रखो 
तुम्हारी बात सुनने में, मसर्रत उसको होती है 
मुसीबत का कोई मारा हो, राह हक़ उसको होती है 
थके हारे जो दुनियां के हैं, फ़रहद उनको होती है 
दिलों पे बारे नाहक़ से, फ़राग़त उनको होती है 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
गुनाहगार को इससे, जन्नत मिली है -2 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
मरा जब लाज़र उसका दोस्त, उसका दिल भी भर आया 
और उसकी बहन-ओ मरियम मार्था, पर भी तरस आया 
वो उनके गम में ग़मगीं होके, उसकी कब्र पे पहुंचा 
अज़ीज़ उसको था लाज़र, इस कदर वो उस जगह रोया 
बुलंद आवाज़ से चिल्लाकर उसने, हुक्म फ़रमाया 
कफ़न में लिपटा लाज़र कब्र से, बाहर निकल आया 
ये एजाज़-ए-मसीहा था, कि मुर्दा कब्र से उठा 
ये कलाम खुदा था साथ जिसके, रूह-ए-अक़दस था 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
गुनाहगार को इससे, जन्नत मिली है -2 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
समंदर में फंसे शागिर्द जब, तूफ़ान था भारी 
किया साकिन समंदर और उसने, रोक दी आँधी 
मर्ज़-ए-ला-'इलाज आए थे जितने, हो गए चंगे 
गुनाहों से भी अपने-अपने सारे, पा गए माफ़ी 
ये बातें देखकर सब लोग, होके इक आवाज़ चिल्लाए 
कि ऐसी बात इससे पेशतर, देखी नहीं हमने 
हाँ… करें उस पर यकीं, 
और उससे सारी मुश्किलें कह दें  
वो है मुश्किल-कुशा, उस पर ही अपनी आरज़ू रखें
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
गुनाहगार को इससे, जन्नत मिली है -2 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
कलाम-ए-हक़ मसीहा आए, सबको जिंदगी देने 
बक़ा देने हमेशा के लिए, कामिल ख़ुशी देने 
करें उन पर यकीं, ईमान लाए उनकी बातों पर 
रखें ईमान उन पर, और उनसे गुफ़्तुगू कीजे 
मोहब्बत उनको तुमसे है, मुसीबत उनको बतलाओ 
हर एक मुश्किल को वो आसां करेंगे, उनके पास आओ 
हाँ… गुनाहों से निज़ात, और हर मर्ज़ से वो शिफ़ा देंगे 
जो नामुमकिन है 'इशरत वो उसे, मुमकिन बना देंगे 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
गुनाहगार को इससे, जन्नत मिली है -2 
यही कलमा-ए-हक़, रहे ज़िन्दगी है -2 
रहे ज़िन्दगी है -5

Yahi Kalma-E-Haq Rahe Zindagi Hai

उर्दू शब्दों के अर्थ:

  • कलमा-ए-हक़ = ईश्वर की कही बातें, सच्चाई
  • जल्वा = तेज, नूर, आन बान, प्रकाश, तेज, शोभा, सौंदर्य
  • दर्स = शिक्षा, शिक्षण, दर्शन, दीदार
  • तफ़रीक़ = फरक होने की अवस्था या भाव, अन्तर, भिन्नता, पृथक्ता, जुदाई
  • रूह-ए-क़ुदुस = पवित्र आत्मा
  • बा’इस = कारण, हेतु, सबब, मूल कारण, निमित्त
  • फ़रज़ंद = पुत्र, बेटा, पूत, आत्मज, संतान
  • मसर्रत = आनंद, ख़ुशी, हर्ष, उल्लास, प्रसन्नता
  • फ़राग़त = मुक्ति, छुटकारा, नजात, फ़ुर्सत, निवृत्ति, निश्चिंतता, बेफ़िक्री, चिंताओं से मुक्ति, सुख, सुकून, आराम, चैन, राहत
  • साकिन = जो एक ही स्थान पर स्थिर रहता हो, अचल, निवासी, रहने वाला, ठहरा हुआ, स्थिर, बरक़रार
  • पेशतर = किसी की तुलना में पूर्वकाल में, सब से पहले, पूर्वता, पूर्व, पहले, आगे
  • मुश्किल-कुशा = कष्ट में मदद करने वाला, संकट-मोचन, कठिन समय में काम आने वाला, कठिन समय को आसान करेने वाला
  • आरज़ू = चाहत, इच्छा, वांछा, तमन्ना, इश्तियाक़, ख्वाहिश, पाने की तलब, मनोकामना, दिली मुराद
  • बक़ा = अस्तित्व, जीवित रहना, नित्यता, निरंतरता, अनश्वरता, रक्षा, हिफ़ाज़त, सलामती
  • कामिल = पूरा, पूर्ण, समूचा; संपूर्ण, परिपूर्ण, निपुण, कुशल, कौशलपूर्ण, मुकम्मल, सर्वांगपूर्ण, दक्ष, होशियार
  • गुफ़्तुगू = बातचीत, वार्ता, वार्तालाप, भाषण
  • ‘इशरत = ख़ुशी, आनंद, चैन, आराम, हर्ष

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

lyricsa (hindi christian song lyrics)

क्या लिरिक्सा आपके लिए एक उपयोगी संसाधन है?

हम आपको बेहतर सेवाएँ देने के लिए प्रयासरत हैं, कृपया YouTube पर भी हमारा समर्थन करें...

Don't Miss