Yeshu Ji Kabhi Aao Tum Hamri Nagariya Me | Samson Massey

Yeshu Ji Kabhi Aao

तुमरी नगरी आशीष बरसे 
हमरी नगरी लानत 
तुमरी नगरी में खुशियाँ हैं 
हमरी में है आफ़त 
तुमरी नगरी चमचम चमके 
हमरी में अँधियारा 
अँधियारा…
तुम ज्योति हो, तुम जीवन हो 
तुम कल्याण हमारा 
तुम कल्याण हमारा 
यीशु जी कभी आओ -2 
तुम हमरी नगरिया में 
ओ नगरिया में -6 
जी भर के 
जी भर के तुम्हें देखूं -2 
बंद कर लूँ नज़रिया में 
ओ नज़रिया में -2 
पापों से भरे मन को 
धो दीजे ये विनती है -3
मैं बांध के लाया हूँ -2 
पापों को गठरिया में 
ओ गठरिया में -5 
इन्सान गुनाहों से 
बेदाग नहीं लेकिन -3
एक दाग नहीं देखा -2 
बस तेरी चदरिया में 
ओ चदरिया में -3  
जिसने भी शिफाया भी  
पाई वही कहता है -3 
क्या? 
हिक़मत-ओ-शफाक़त है -2 
इस नाम-ए-नासरिया में 
ओ नासरिया में -3  
मुक्ति के मसीहा से 
मुक्ति को करो हासिल -3 
ये चीज़ नहीं बिकती 
किसी और बज़रिया में 
ओ बज़रिया में -3 
मुज़ी ते सलाम अपनी 
तौबा अभी कर लीजे -3 
फिर वक़्त कहाँ होगा? -2 
जाओगे कबरिया में 
ओ कबरिया में -3 

Yeshu Ji Kabhi Aao Tum Hamri Nagariya Me | Samson Massey

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added