Ibn-E-Khuda Ke Jism Me | Tabita Bashir

Ibn-E-Khuda Ke Jism Me

इब्न-ए-खुदा के जिस्म में 
आने की रात है -2 
सबको खुदा का प्यार 
बताने की रात है 
इब्न-ए-खुदा के जिस्म में 
आने की रात है
Ibn-E-Khuda Ke Jism Me
Aane Ki Raat Hai -2 
Sabko Khuda Ka Pyaar 
Bataane Ki Raat Hai 
Ibn-E-Khuda Ke Jism Me
Aane Ki Raat Hai -2 
ज़ुल्मत का दौर ख़त्म 
हो गया जहान से - 3 
खुशियों के राग़ छेड़ने 
गाने की रात है 
सबको खुदा का प्यार…
Zulmat Ka Daur Khatm
Ho Gya Jahan Se -3 
Khushiyon Ke Raag Chhedne 
Gaane Ki Raat Hai 
Sabko Khuda Ka Pyaar...
जो लोग हैं गुनाहों की 
गफ़लत में सो रहे -3 
उनको हिला हिला के 
जगाने की रात है 
सबको खुदा का प्यार 
बताने की रात है 
इब्न-ए-खुदा के जिस्म में 
आने की रात है
Jo Log Hain Gunaahon Ki 
Gaflat Me So Rahe -2 
Unko Hila Hila Ke 
Jagaane Ki Raat Hai 
Sabko Khuda Ka Pyaar...
करके खुदा का याद 
पयामे सलामती -2 
तक़दीर दूसरों की 
बदलने की रात है 
सबको खुदा का प्यार… 
Karke Khuda Ka Yaad 
Pyaame Salamati -2 
Taqdeer Dusron Ki 
Badalne Ki Raat Hai 
Sabko Khuda Ka Pyaar...

Ibn-E-Khuda Ke Jism Me | Tabita Bashir

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added