8 C
Shimla
Tuesday, April 23, 2024

Jab Uthta Hai Dhuan | Anish Masih

Jab Uthta Hai Dhuan Lyrics

जब उठता है धुआँ, तेरी हुजूरी का
भर जाता हूँ मैं, तेरी महिमा से -2 
जब सब धुँधला दिखता था 
हर मंज़र बिखरा था
तेरे हाथों ने तब प्रभु, मुझको थाम लिया
जब झूठे थे हर सपने 
और रूठे थे सब अपने 
तेरे ही प्यार ने, पनाह मुझको दिया -2 
जब उठता है धुआँ, तेरी हुजूरी का
भर जाता हूँ मैं, तेरी महिमा से -2
हाँ हाँ मैं निर्बल हूँ
पर तू ही मेरा बल है मेरे खुदा 
मेरी ही निर्बलता में सिद्ध करता
तू सामर्थ है खुदा -2 
हर पल तू मेरे साथ है, ये मुझको है यकीन 
छू ले प्रभु जो तू मुझे, जी जाऊँ मैं अभी 
जब उठता है धुआँ, तेरी हुजूरी का
भर जाता हूँ मैं, तेरी महिमा से -2
मेरे गुनाहों को तू, ले गया है प्रभु
तोड़े बन्धन मेरे ताकि, आज़ाद मैं रहूँ -2 
बिखरा सा था हाँ मैं प्रभु, फिर तूने बना दिया 
तेरी रूह की सामर्थ से प्रभु, 
तूने मुझको जिला दिया
जब उठता है धुआँ, तेरी हुजूरी का
भर जाता हूँ मैं, तेरी महिमा से -2
Jab Uthta Hai Dhuan, 
Teri Huzuri Ka
Bhar Jata Hun Main, 
Teri Mahima Se -2 
Jab Sab Dhundhla Dikhta Tha
Har Manzar Bikhra Tha
Tere Hathon Ne Tab Prabhu 
Mujhko Thaam Liya 
Jab Jhuthe The Har Sapne 
Aur Ruthe The Sab Apne 
Tere Hi Pyaar Ne, 
Panah Mujhko Diya -2 
Jab Uthta Hai Dhuan...
Haan Haan Main Nirbal Hun 
Par Tu Hi Mera Bal Hai Mere Khuda
Meri Hi Nirbalta Me Siddh Karta 
Tu Samarth Hai Khuda -2 
Har Pal Tu Mere Sath Hai, 
Ye Mujhko Hai Yakeen 
Chhu Le Prabhu Jo Tu Mujhe, 
Jee Jaun Main Abhi 
Jab Uthta Hai Dhuan...
Mere Gunahon Ko Tu, 
Le Gaya Hai Prabhu
Tode Bandhan Mere Taaki, 
Aazad Main Rahun -2 
Bikhra Sa Tha Main Prabhu, 
Fir Tune Bana Diya 
Teri Rooh Ki Samarth Se Prabhu 
Tune Mujhko Jila Diya 
Jab Uthta Hai Dhuan...

Jab Uthta Hai Dhuan Teri Huzuri Ka | Anish Masih

Lyrics By Anish Masih

spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Low of Leadership

The 21 Irrefutable Laws of Leadership

Follow Them and People Will Follow You (25th Anniversary Edition)

Don't Miss