23.4 C
Shimla
Wednesday, July 6, 2022

Popular

Masih Fir Aaj Har Ek Se Kalaam Kar | Faraz Nayyer

Masih Fir Aaj Har Ek Se Kalaam Kar

मसीह फिर आज हर एक से कलाम कर 
दिलों को तोड़, और अजीब काम कर 
MASIH FIR AAJ HAR EK SE KALAAM KAR
DILON KO TOR AUR AJEEB KAAM KAR 
है जैसी तेरी मरजी आसमान में 
वैसी ही पूरी कर, तू इस जहान में -2
हम बैठे हैं तेरी तरफ, निगाह किए 
अब आ हमारे दरमियान क्याम कर
मसीह फिर आज हर एक से कलाम कर 
दिलों को तोड़, और अजीब काम कर
HAI JAISI TERI MARZI ASMAAN ME
VAISI HI PURI KAR TU IS JAHAAN ME
HAM BAITHE HAIN TERI TARAF NIGAAH KIYE 
AB AA HAMARE DARMIYAN KAYAM KAR  
MASIH FIR AAJ HAR EK SE KALAAM KAR
DILON KO TOR AUR AJEEB KAAM KAR
मसाह उंडेल, जुए तोड़ दे सभी 
ये सर तेरे कदमों से न हटें कभी -2
दिल तो अपने तुझको, दे चुके हैं हम 
अब जान और बदन भी अपने नाम कर 
मसीह फिर आज हर एक से कलाम कर 
दिलों को तोड़, और अजीब काम कर
MASAAH UNDAIL JUYE TOR DE SABHI
YE SAR TERE KADMON SE NA HATEN KABHI
DIL TO APNE TUJH KO DE CHUKE HAIN HAM
AB JAAN AUR BADAN BHI APNE NAAM KAR  
MASIH FIR AAJ HAR EK SE KALAAM KAR
DILON KO TOR AUR AJEEB KAAM KAR
तेरे लहू का एक भी कतरा जो है 
दरिया बने, बहा दे, हर एक खतरा जो है -2
मनसूबे जो शैतान ने बनाए हैं 
रूह के मसाह से सब के सब नाकाम कर 
मसीह फिर आज हर एक से कलाम कर 
दिलों को तोड़, और अजीब काम कर
TERE LAHU KA EK BHI KATRA JO HAI 
DARYA BANE BAHA DE HR KHATRA JO HAI 
MANSUBE JO SHETAN NE BHANAYE HAIN
ROOH K MASAAH SE SAB K SAB NAKAM KAR
MASIH FIR AAJ HAR EK SE KALAAM KAR
DILON KO TOR AUR AJEEB KAAM KAR

Singer: Faraz Nayyer

Masih Tu Aaj Har Ek Se Kalaam Kar

Lyrics & Composition: Samuel Nayyer

Music Produced, Arranged and Mixed by @FarazNayyer @FarazNayyerStudio

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यदि आप हमारे इस कार्य में आर्थिक रीति से सहयोग देना चाहते हैं तो आप हमसे [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। या UPI द्वारा [email protected] पर अपनी योगदान राशि भेज सकते हैं।

Popular

Don't Miss