Popular

Ye Mazhab Nahin Rishta Hai Mera | Mere Dukh Ka Ant Wahi Hai | Shifa Bellary

Ye Mazhab Nahin Rishta Hai Mera | Mere Dukh Ka Ant Wahi Hai | Shifa Bellary

मेरे दुःख का अंत वही है 
मेरे सुख का सागर तू बना -2 
तेरे आंचल की छाया असीम है 
तेरे दामन से बहती चंगाई है -2 
मेरे खुदा, मेरे खुदा 
तारीफ करूँ मैं सदा -2 
ये मज़हब नहीं, रिश्ता है मेरा -2 
माँ वही, पिता भी है मेरा -2 
तेरी इबादत, मेरी गवाही हो 
मेरी ज़िन्दगी, तेरी चलाई हो -2 
तेरी बाहों में, बीते हर दिन मेरे 
तेरे साथ ही मैं, जीतूँ सारे जंग मेरे -2 
मेरे खुदा, मेरे खुदा 
तारीफ करूँ मैं सदा -4 
ये मज़हब नहीं, रिश्ता है मेरा -4 
माँ वही, पिता भी है मेरा -4 

Ye Mazhab Nahin Rishta Hai Mera | Mere Dukh Ka Ant Wahi Hai | Shifa Bellary

Songwriter- Shifa Bellary

Composed by : Shifa Bellary & Prince Mark Paul

PRODUCED BY KADOSH PRODUCTIONS, MUMBAI. https://linktr.ee/kadoshproductions

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular

Recommended