21.6 C
Shimla
Thursday, July 7, 2022

Popular

Aye Bojh Se Dabe Huye

Aye Bojh Se Dabe Huye

ऐ बोझ से दबे हुए लोगो तुम
पाओ मेरे पास विश्राम तुम -2
मैं चला फिरा हूँ उन राहों पर
जो सताए तुमको हर मोड़ पर -2
जगत को जीत कर पाई मैंनें फतह
निराश न हो तुम चलो मेरी तरह
गुनाह की कीमतें चुकाते तुम थक गए
विनाश के कगार पर खड़े हुए -2
मेरा यह खून बह गया सलीब पर
जो जिन्दगी को पाक और साफ कर
प्रेम को तुम इस जहाँ में ढूँढते
झूठ व फरेब प्राप्त हो सके -2
बचाने को तुम्हे क्रूस चढ़ गया
मैं बहुत ही जल्द लौट आता हूँ
पिता से अपने तुमको मैं मिलाता हूँ -2
थोड़ा-सा और इन्तजार कर सको
औरों को भी मैं मौत से बचा सकूँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यदि आप हमारे इस कार्य में आर्थिक रीति से सहयोग देना चाहते हैं तो आप हमसे [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। या UPI द्वारा [email protected] पर अपनी योगदान राशि भेज सकते हैं।

Popular

Don't Miss