Popular

Jab Bhi Main Subho Kadmon Me Tere

Jab Bhi Main Subho Kadmon Me Tere

जब भी मैं सुबहो, क़दमों में तेरे -2
मसीहा सर को झुकाता हूँ 
फिर सारा ही दिन, साये में तेरे -2
चैन और राहत पाता हूँ
जब भी मैं सुबहो, क़दमों में तेरे
Jab bhi main subho, 
kadmon me tere
Masiha sar ko jhukata hun
Fir sara hi din, 
saaye me tere 
chain aur rahat paata hun
Jab bhi main subho, 
kadmon me tere
तुझे देखती हैं आँखें मेरी 
तेरा नाम लेती हैं सांसें मेरी -2
तेरे रूह की जुम्बिश से चलता रहे दिल -2
हर एक पल ये ख़वाहिश मैं करता हूँ
जब भी मैं सुबहो, क़दमों में तेरे 
Tujhe dekhti hain aankhain meri
Tera naam leti hain saansain meri
Tere Rooh ki Jumbish se chalta rahe dil
Har ek pal ye khwahish main karta hun
Jab bhi main subho, 
kadmon me tere
चले रास्तों में मेरे साथ तू 
गिरुं जब कहीं, थाम लेता है तू -2
हाथों पे अपने उठाता है मुझको -2
सकून तेरी बाहों में पाता हूँ 
जब भी मैं सुबहो, क़दमों में तेरे
Chale raaston me mere sath tu
Girun jab kahin thaam leta hai tu
Hathon pe apne uthata hai mujhko
Sakoon teri baahon me paata hun
Jab bhi main subho, 
kadmon me tere
तेरा रूह देता दलेरी मुझे 
तेरा खून देता है फतह मुझे -2
तू देता कुव्वत इरादों को मेरे -2
कदम जब मैं आगे बढ़ाता हूँ 
जब भी मैं सुबहो, क़दमों में तेरे
Tera Rooh deta daleri mujhe
Tera Khoon deta hai fatha mujhe
Tu deta quwat iradon ko mere
Qadam jab main aagay barhata hun
Jab bhi main subho, 
kadmon me tere

Song | Jab bhi main subho

Singer & Music Producer | Faraz Nayyer

Lyrics & Composition | Samuel Nayyer

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular

Recommended