Mere Jiwan Ka Maksad Tu Hai

Mere Jiwan Ka Maksad Tu Hai

मेरे जीवन का मकसद तू है
मेरे जीने का कारण तू है
मैं जीऊँ या मरूँ, वो तेरे लिए है
तू मेरा प्रभु
Mere Jiwan Ka Maksad Tu Hai 
Mere Jeene Ka Kaaran Tu Hai 
Main Jeeyun Ya Marun
Wo Tere Liye Hai 
Tu Mera Prabhu
पिछला सब भूलकर 
मैं आगे ही दौड़ा चलूँ
जो मेरे लिए धन था 
उसको मैं त्याग दूँ
कि मैं पाऊँ उससे पुरस्कार 
दौड़ा मैं जाऊँ
मैं जीऊँ या मरूँ, वो तेरे लिए है
तू मेरा प्रभु
Pichhla Sab Bhulkar 
Main Aage Hi Dauda Chalun 
Jo Mere Liye Dhan Tha 
Usko Main Tyaag Dun 
Ki Main Paaun Usse Puruskaar 
Dauda Main Jaaun 
Main Jeeyun Ya Marun
Wo Tere Liye Hai 
Tu Mera Prabhu
मुझ पर हुई है कृपा, 
बेकार न जाने दूँ
जिसने मुझे है चुना, 
उसकी ओर मैं बढूँ
कि मैं देखूँ तेरी सलीब पर, 
खींचा मैं जाऊँ
मैं जीऊँ या मरूँ, वो तेरे लिए है
तू मेरा प्रभु
Mujh Par Huyi Hai Kripa 
Bekar Na Jaane Dun 
Jisne Mujhe Hai Chuna 
Uski Or Main Badhun 
Ki Main Dekhun Teri Saleeb Par 
Khincha Main Jaaun 
Main Jeeyun Ya Marun
Wo Tere Liye Hai 
Tu Mera Prabhu

Mere Jiwan Ka Maksad Tu Hai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added