20.7 C
Shimla
Monday, April 22, 2024

Zindagi To Tere Paas Hai | Subhash Gill

Zindagi To Tere Paas Hai Lyrics

ज़िन्दगी तो तेरे पास है, 
क्यों भटकूँ दर-ब-दर 
तेरे हुक्मों पर मैं चल सकूँ 
दे खुदावंद अपना डर 
दे खुदावंद अपना डर
तेरे हुक्मों पर मैं चल सकूँ 
दे खुदावंद अपना डर 
न साथ हो बदकारों से मेरा 
न ठट्ठे बाज़ों से 
मैं तेरी पाक हज़ूरी में 
रहकर बनूँ बेहतर -2
रहकर बनूँ बेहतर 
मैं तेरी पाक हज़ूरी में 
रहकर बनूँ बेहतर
खुश कर सकूँ, खुदाया तुझे 
हो पुर-पुख्ता ईमान 
हो तेरे पाक पहाड़ पर 
हर पल मेरी नज़र -2 
हर पल मेरी नज़र
हो तेरे पाक पहाड़ पर 
हर पल मेरी नज़र
तूने मुझे है चुन लिया 
तू बाप और मैं बेटा 
दुनियां ये घर है आरज़ी 
और आसमां अब्दी घर -2 
और आसमां अब्दी घर
दुनियां ये घर है आरज़ी 
और आसमां अब्दी घर
मुझ पर सज़ा का हुक्म नहीं 
लहू ने किया आज़ाद 
न ज़िस्म की ख़वाहिशें पूरी करूँ 
चलूँ तेरी मर्ज़ी पर -2 
चलूँ तेरी मर्ज़ी पर
न ज़िस्म की ख़वाहिशें पूरी करूँ 
चलूँ तेरी मर्ज़ी पर
Zindagi To Tere Paas Hai
Kyon Bhatkun Dar-B-Dar
Tere Hukmo Par Main Chal Sakun
De Khudawand Apna Dar
De Khudawand Apna Dar
Tere Hukmo Par Main Chal Sakun
De Khudawand Apna Dar
Na Sath Ho Badkaaron Se Mera
Na Thatthe Baazon Se
Main Teri Paak Hazuri Me 
Rehkar Banu Behtar -2 
Rehkar Banu Behtar
Main Teri Paak Hazuri Me 
Rehkar Banu Behtar
Khush Kar Sakun, Khudaya Tujhe
Ho Pur-Pukhta Imaan
Ho Tere Paak Pahad Par
Har Pal Meri Nazar -2 
Har Pal Meri Nazar
Ho Tere Paak Pahad Par
Har Pal Meri Nazar
Tune Mujhe Hai Chun Liya
Tu Baap Aur Main Beta
Duniyan Ye Ghar Hai Aarzii
Aur Aasman Abdi Ghar -2 
Aur Aasman Abdi Ghar
Duniyan Ye Ghar Hai Aarzii
Aur Aasman Abdi Ghar
Mujh Par Saza Ka Hukm Nahin
Lahu Ne Kiya Aazad 
Na Jism Ki Khawahishen Puri Karun
Chalun Teri Marzi Par -2 
Chalun Teri Marzi Par
Na Jism Ki Khwahishen Puri Karun
Chalun Teri Marzi Par 

Zindagi To Tere Paas Hai | Subhash Gill

spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Low of Leadership

The 21 Irrefutable Laws of Leadership

Follow Them and People Will Follow You (25th Anniversary Edition)

Don't Miss