Jab Se Yeshu Ki Tarif Me Ham | Guddu James | Qawaali

Jab Se Yeshu Ki Tarif Me Ham

जब से यीशु की तारीफ में हम 
चंद नगमें सुनाने लगे हैं -4 
आसमां पर फ़रिश्ते ख़ुशी से -2 
झूमकर गुनगुनाने लगे हैं -4 
जो निकाला गया था अदन से 
क्योंकि मानी न थी उसने रब्ब की -2 
अब मसीह के रहम से ये आदम -2 
फिर से जन्नत में जाने लगे हैं -4 
ये हमारे मसीहा की रहमत 
उसके हाथों में थी ऐसी कुदरत -2 
जो सदा से थे अंधे और लंगड़े -2 
हर तरफ आने जाने लगे हैं -4 
आप क्यों हो परेशां जहाँ में 
आइए करता हूँ ये बयां मैं -2 
अपनी फिकरें मसीहा को दे दो 
प्यार से वो बुलाने लगे हैं -4 

Jab Se Yeshu Ki Tarif Me Ham

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added