13.4 C
Shimla
Wednesday, February 28, 2024

Hadbad Gadbad Karti Duniya | Guddu James

Hadbad Gadbad Karti Duniya Lyrics

हड़बड़ गड़बड़ करती दुनियां
रहती गड़बड़खाने में -4 
कुछ तो हैं मदहोश नशे में
बाकी हैं बुतखाने में -4 
बुरा न मानो, सच्ची बातें, 
कड़वी तो लगती यारों -2
लेकिन सोचो लगे रहोगे, 
कब तक पाप कमाने में? -2
हड़बड़ गड़बड़, हड़बड़ गड़बड़
हड़बड़ गड़बड़, भैया हड़बड़ गड़बड़, 
हड़बड़ गड़बड़, अरे क्यों करते हो?
हड़बड़ गड़बड़ करती दुनियां…
हमने सुना है लाखों मुंह से, 
सुनके हमें रोना आया -4
सुन लो अगुवों, गौर से अब तुम
सबने जो है कहलाया -2
ऐसे अगुवे क्या सिखलाएंगे 
जो हमारी तरह हों -4
सुबह को बोले, खुदा की वाणी
शाम को हैं मयखाने में
हड़बड़ गड़बड़…
बात पते की हम कहते हैं 
कान ज़रा तुम धर लेना -4  
थोड़ी मनादी कभी कभी 
अपने घर में भी कर लेना -2 
उनके बच्चे सबसे ज्यादा 
बिगड़े हुए मिलते देखो -2 
जिनकी सारी उम्र गुज़र गई 
दूसरों को समझाने में -2 
हड़बड़ गड़बड़…
रुपिया, कोठी, कारें, बिज़निस 
सब चंदे की माया है -4 
कल के भिखारी, आज लखपति 
कैसे, समझ न आया है? -2 
झूठे सूठे कागज़ लेकर 
घूम के कोर्ट, पुलिस थाने -2 
चर्च के हाते, कॉलिज, हॉस्टल 
लगे पड़े बिकवाने में -2 
हड़बड़ गड़बड़…
जैसे ही कोई नया सा दिखता 
उसके पीछे पड़ जाते -4 
एक ईसाई को फुसलाकर 
फिर से ईसाई बनवाते -2 
बपतिस्मा, भाषाएँ और 
विश्वासी का लालच दे -2 
दूसरों के चर्चों के मेंबर 
लगे पड़े तुड़वाने में -2 
हड़बड़ गड़बड़…
बिल्डिंग भी है, हाकिम भी है 
पैसा भी आता रहता -4 
स्कूलों में मिशन के देखो 
फिर भी ताला सा रहता -2 
हवामहल हों, दरवाज़े और 
दीवारों में जख्म लगे -2 
ऐसे में क्या दिल करता है 
पढ़ने और पढ़ाने में -2 
हड़बड़ गड़बड़…
कॉन्फ्रेंस के अन्दर के दर्शन
तुमको मैं करवाऊँ -2 
देख के इनके असली चेहरे 
जी करता है मर जाऊँ -2 
दिन में कीमत जो मिलती है 
वोटों की उनकी देखो -2 
रात में दारु, मुर्गे लेकर 
पिकनिक चले मनाने में -2 
हड़बड़ गड़बड़…
चंदे की हेरा-फेरी में 
माना तुम खिलाड़ी हो -4 
क्या पाते हो, क्या खोओगे 
जानते नहीं अनाड़ी हो -2 
खुदा का पैसा, जिसने मारा 
उसको देखा है हमने -2 
दिल का दौरा, हड्डी टूटे 
या फिर पागलखाने में -2 
बुरा न मानों…
चालें इनकी होतीं ऐसी 
जैसे बच्चा सांप का हो -4 
चर्च में आते, अकड़ के ऐसे 
जैसे इनके बाप का हो -2 
दे जवानों को धोखा ये 
कहके देते बस तुम हो -2 
पर इलेक्शन में लग जाते 
अपनों को ही जिताने में -2 
हड़बड़ गड़बड़…

Hadbad Gadbad Karti Duniya | Guddu James

आओ एक ऐसा मज़हब बनाया जाए -2 जिसमें इंसान को इंसान बनाया जाए 

परिंदों में कभी, फिर काम परस्ती नहीं होती -2 अरे कभी मंदिर पे जा बैठे, कभी मस्ज़िद पे जा बैठे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

lyricsa (hindi christian song lyrics)

क्या लिरिक्सा आपके लिए एक उपयोगी संसाधन है?

हम आपको बेहतर सेवाएँ देने के लिए प्रयासरत हैं, कृपया YouTube पर भी हमारा समर्थन करें...

Don't Miss