20.4 C
Shimla
Thursday, April 18, 2024

Khudawand Tera Takht Laga Yahan | Arif Bhatti

Khudawand Tera Takht Laga Yahan Lyrics

खुदावंद तेरा तख़्त लगा यहाँ 
तू कुदरत और जलाल से भरा हुआ -2 
यहाँ मौजूद है, मौजूद है, मौजूद है 
खुदावंद तू जलाली और कुद्दूस है -2 
खुद को हम सब तेरे हुज़ूर झुकाते हैं 
तेरी बादशाही दिलों में सजाते हैं -2 
क़दमों में तेरे सर अपने झुकाते हैं 
तेरी फ़तह के झंडे को लहराते हैं 
यहाँ मौजूद है, मौजूद है, मौजूद है 
खुदावंद तू जलाली और कुद्दूस है -2
तेरे लहू में खुद को हम छुपाते हैं 
ज़िन्दगी की चौखटों पे हम लगाते हैं -2 
सब बंधनों से हम रिहाई पाते हैं 
तेरी सूली पे नज़रें लगाते हैं 
यहाँ मौजूद है, मौजूद है, मौजूद है 
खुदावंद तू जलाली और कुद्दूस है -2
तू ज़िन्दगी का दरिया है खुदा मेरे 
तू रहमतों का बानी है खुदा मेरे -2 
तू ही शिफा का मम्बा है खुदा मेरे 
तू बरकतों से भरा है खुदा मेरे 
यहाँ मौजूद है, मौजूद है, मौजूद है 
खुदावंद तू जलाली और कुद्दूस है -2
Khudawand Tera Takht Laga Yahan
Tu Kudrat Aur Jalal Se Bhara Hua -2 
Yahan Maujud Hai, 
Maujud Hai, Maujud Hai
Khudawand Tu Jalali Aur Kuddus Hai -2
Khud Ko Ham Sab Tere Huzur Jhukate Hain 
Teri Baadshahi Dilon Me Sajate Hain -2 
Kadmo Me Tere Sar Apne Jhukate Hain 
Teri Fatah Ke Jhande Ko Lehraate Hain 
Yahan Maujud Hai, 
Maujud Hai, Maujud Hai
Khudawand Tu Jalali Aur Kuddus Hai -2
Tere Lahu Me Khud Ko Ham Chhupate Hain
Zindagi Ki Chaukhton Pe Ham Lagaate Hain -2 
Sab Bandhno Se Ham Rihaayi Paate Hain 
Teri Suli Pe Nazren Lagaate Hain 
Yahan Maujud Hai, 
Maujud Hai, Maujud Hai
Khudawand Tu Jalali Aur Kuddus Hai -2
Tu Zindagi Ka Dariya Hai Khuda Mere
Tu Rehmaton Ka Baani Hai Khuda Mere -2 
Tu Hi Shifa Ka Mamba Hai Khuda Mere 
Tu Barkaton Se Bhara Hai Khuda Mere 
Yahan Maujud Hai, 
Maujud Hai, Maujud Hai
Khudawand Tu Jalali Aur Kuddus Hai -2

Khudawand Tera Takht Laga Yahan | Arif Bhatti

Written and composed by Arif Bhatt

spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Low of Leadership

The 21 Irrefutable Laws of Leadership

Follow Them and People Will Follow You (25th Anniversary Edition)

Don't Miss