Mere Mehboob Pyare Masiha | Qawwali

Mere Mehboob Pyare Masiha

महबूब मेरे, महबूब मेरे 
महबूब मेरे, महबूब -6
मेरे महबूब प्यारे मसीहा
किस जगह तेरा जलवा नहीं है -2 
किस जगह तेरी शौहरत नहीं है
किस जगह तेरा चर्चा नहीं है -2 
लोग पीते हैं, पीकर गिरे हैं -2 
मैं तो पीता हूँ, गिरता नहीं हूँ -2
मैं तो पीता हूँ, दर से मसीहा -2
ये अँगूरों का सीरा नहीं है -2 
मेरे महबूब प्यारे मसीहा
किस जगह तेरा जलवा नहीं है
कान वालों ने तुझको सुना है -2
आँख वालों ने तुझको है देखा -2 
तुझको पहचानते हैं वो इन्सां -2
जिनकी आँखों पे पर्दा नहीं है -2 
मेरे महबूब प्यारे मसीहा
किस जगह तेरा जलवा नहीं है
मर गयी थी वो याईर की बेटी -2 
तूने उस पे निगाह-ए-करम की -2 
कर दिया जिन्दा उसको ये कहकर -2
ये तो सोई है, मुर्दा नहीं है -2 
मेरे महबूब प्यारे मसीहा
किस जगह तेरा जलवा नहीं है
जिसमें शामिल नहीं इश्क तेरा -2 
वो परस्तिश - परस्तिश नहीं है -2 
तेरे कदमों में होता नहीं जो -2 
कोई सिज़दा, वो सिज़दा नहीं है -2 
मेरे महबूब प्यारे मसीहा
किस जगह तेरा जलवा नहीं है

Mere Mehboob Pyare Masiha | Qawwali

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recently Added