+917832878330

24/7

Himachal (India)

Tu Meri Sachchai Ko Sun Aye Yahowa | Arif Bhatti

Share This Post

Tu Meri Sachchai Ko Sun Aye Yahowa Lyrics

तू मेरी सच्चाई, को सुन ऐ यहोवा 
जो दिल की दुहाई, वो सुन ऐ यहोवा -2 
मैं बे-ग़रज़ होंठों से, तुझको पुकारूँ 
तू सुन ऐ खुदावंद, मैं तुझको पुकारूँ -2
मेरा फैसला, तेरे दर से हो सादिर 
तेरी ऑंखें सच को, परखने पे कादिर -2
यहोवा तुझी से, दुआ मैंने की है
दुआओं का मेरी, जवाब तू ही है -2 
तू मेरी तरफ कान, अपना झुका दे 
मेरी अर्ज़-ओ-मिन्नत, तू सुन इल्तिजा ले -2
जो करते तवक्कुल, हैं तुझ पर खुदाया 
तेरे दाहिने हाथ, ने उनको बचाया -2 
सभी दुश्मनों से, बचाता रहेगा 
वो शफ़क़त अजब, तू दिखाता रहेगा -2 
तू मेरी सच्चाई, को सुन ऐ यहोवा 
जो दिल की दुहाई, वो सुन ऐ यहोवा
Tu Meri Sachchai 
Ko Sun Aye Yahowa
Jo Dil Ki Duhai
Wo Sun Aye Yahowa -2
Main Be-Garaz Honthon Se 
Tujhko Pukarun
Tu Sun Aye Khudawand
Main Tujhko Pukarun -2 
Mera Faisla Tere Dar Se Ho Saadir
Teri Aankhen Sach Ko
Parakhne Ko Kaadir -2
Yahowa Tujhi Se
Dua Maine Ki Hai
Duaon Ka Meri 
Jawab Tu Hi Hai -2
Tu Meri Taraf Kaan
Apna Jhuka De
Meri Arz-o-Minnat
Tu Sun Iltija Le -2
Jo Karte Tavakkul
Hain Tujh Par Khudaya 
Tere Dahine Hath
Ne Unko Bachaya -2
Sabhi Dushmano Se 
Bachata Rahega
Wo Shafkat Azab
Tu Dikhata Rahega -2
Tu Meri Sachchai 
Ko Sun Aye Yahowa
Jo Dil Ki Duhai
Wo Sun Aye Yahowa

Tu Meri Sachchai Ko Sun Aye Yahowa | Arif Bhatti

Written and composed by Arif Bhatti

Music Produced By: Leo Twins

“Tu Meri Sachchai” by Sound of Worship

उर्दू शब्दों के अर्थ

  • बे-ग़रज़ = निःस्वार्थ, जिसका कोई स्वार्थ न हो
  • सादिर = जारी, नाफ़िज़, जारी किया हुआ (हुक्म आदि), आदरपूर्वक; आदर के साथ; इज़्ज़त से, आने वाला, पहुंचने वाला, होने वाला
  • क़ादिर = क़ुदरत या शक्ति रखने वाला, शक्तिशाली, समर्थ, ताक़तवर, क़ाबू रखने वाला, नियन्त्रण रखने वाला, माहिर, ईश्वर का एक नाम
  • ‘अर्ज़ = निवेदन, याचना, प्रार्थना, आवेदन, गुज़ारिश, अनुरोध
  • मिन्नत = विनती, प्रार्थना, ख़ुशामद, याचना, गिड़गिड़ाना
  • इल्तिजा = निवेदन, गुज़ारिश, विनती, प्रार्थना, दरख़्वास्त, दुहाई, मिन्नत, ख़ुशामद
  • तवक्कुल = परमेश्वर पर निर्भरता या परमेश्वर की योजना पर भरोसा
  • शफ़क़त = करूणा, अनुकंपा, दया, किसी से अपने बच्चों जैसा सुलूक करना, कृपा, मेहरबानी, सहानुभूति, हमदर्दी, बड़ों की ओर से छोटों पर दया दृष्टि, आत्मीयता

More From Arif Bhatti:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here