8.1 C
Shimla
Friday, February 23, 2024

Ek Man Raho Aur Ek Hi Prem

Ek Man Raho Aur Ek Hi Prem Lyrics

बुलाए हुए तो बहुत हैं, पर चुने हुए कम! एकता जो नज़र आती नहीं हम भाइयों में, इस बात का है खुदा को गम!!

एक मन रहो, और एक ही प्रेम -2 
एक ही चित हो, एक ही मनसा रखो 
एक मन रहो, और एक ही प्रेम 
विरोध या झूठी बड़ाई 
के लिए कुछ न करो -2 
पर दीनता से, एक दूसरों को 
अपने से अच्छा समझो -2
एक मन रहो, और एक ही प्रेम -2 
हर एक अपने ही हित की नहीं 
दूसरों के हित की भी चिंता करें -2 
जैसा मसीह का स्वभाव था 
वैसा ही तुम्हारा स्वभाव रहे -2 
एक मन रहो, और एक ही प्रेम -2 
आओ हम सब ये कहें 
प्रभु तू बढ़ें, हम घटें -2 
ऐ यीशु हमको सिखा 
आत्मा में कैसे जीएं -2 
एक मन रहो, और एक ही प्रेम...
EK Man Raho, Aur Ek Hi Prem -2
Ek Hi Chit Ho, Ek Hi Mansa Rakho 
EK Man Raho, Aur Ek Hi Prem
Virodh Ya Jhuthi Badayi 
Ke Liye Kuchh Na Karo -2
Par Deenta Hai, Ek Dusron Ko
Apne Se Achha Samjho -2
EK Man Raho, Aur Ek Hi Prem -2
Har Ek Apne Hi Hit Ki Nahin
Dusron Ke Hit Ki Bhi Chinta Karen -2
Jaisa Masih Ka Swabhav Tha
Vaisa Hi Tumhara Sawabhav Rahe -2
EK Man Raho, Aur Ek Hi Prem -2
Aao Ham Sab Ye Kahen
Prabhu Tu Badhe, Ham Ghaten -2
Aye Yeshu Hamko Sikha
Aatma Me Kaise Jeeyen -2
EK Man Raho, Aur Ek Hi Prem...

Ek Man Raho Aur Ek Hi Prem

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

lyricsa (hindi christian song lyrics)

क्या लिरिक्सा आपके लिए एक उपयोगी संसाधन है?

हम आपको बेहतर सेवाएँ देने के लिए प्रयासरत हैं, कृपया YouTube पर भी हमारा समर्थन करें...

Don't Miss