Popular

Yeshu Tere Khoon Ka Sahara Mil Gaya | Subhash Gill

Yeshu Tere Khoon Ka Sahara Mil Gaya

यीशु तेरे खून का, 
सहारा मिला गया 
गुनाह के सागर में, 
किनारा मिल गया -2 
किनारा मिल गया, 
सहारा मिल गया -2 
गुनाह ने सूरत, सीरत मेरी 
खूब बिगाड़ दी थी 
हो के कुर्बान तूने यीशु, 
छवि सुधार दी थी 
जिंदा लहू, जिंदा लहू, 
जिंदा लहू, जिंदा लहू -2 
बदन जो छुटा था, 
दोबारा मिल गया 
गुनाह के सागर में, 
किनारा मिल गया -2 
किनारा मिल गया, 
सहारा मिल गया -2 
लहू से श्रृंगार किया है, 
कोढ़ से पाक किया है 
ढांप के खून में मुझको बाप के 
सामने पेश किया है 
जिंदा लहू, जिंदा लहू, 
जिंदा लहू, जिंदा लहू -2 
यीशु मेरे पाप का 
कफ्फारा हो गया 
गुनाह के सागर में, 
किनारा मिल गया -2 
किनारा मिल गया, 
सहारा मिल गया -2 
आदम की इस मट्टी को फिर से 
गूंधने ज़मीं पर आया था 
गूंधने को इस मट्टी में तूने 
अपना खून मिलाया था 
जिंदा लहू, जिंदा लहू, 
जिंदा लहू, जिंदा लहू -2 
तेरे खून से घर का 
इशारा मिल गया 
गुनाह के सागर में, 
किनारा मिल गया -2 
किनारा मिल गया, 
सहारा मिल गया -2 

Yeshu Tere Khoon Ka Sahara Mil Gaya

Sung By: Pastor Subhash Gill

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular

Recommended